कृष्णा जी की आरती | Aarti Kunj Bihari Ki Lyrics In Hindi | Aarti Kunj Bihari Ki PDF

आप सभी पाठको के लिए पेश है कृष्णा जी की आरती हिंदी में (Krishna Aarti in Hindi)। 

Krishna Aarti in Hindi With PDF
आप कृष्णा जी की आरती को ऑनलाइन पढ़ भी सकते है और साथ ही कृष्णा आरती pdf (Aarti Kunj Bihari Ki PDF) को अपने फ़ोन में डाउनलोड भी कर सकते है बिना इंटरनेट के पढ़ने के लिए।


Aarti Kunj Bihari Ki Lyrics In Hindi

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की

गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला।

श्रवण में कुण्डल झलकाला, नंद के आनंद नंदलाला।

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥


गगन सम अंग कांति काली, राधिका चमक रही आली।

लतन में ठाढ़े बनमाली; भ्रमर सी अलक, कस्तूरी तिलक, चंद्र सी झलक,

ललित छवि श्यामा प्यारी की, श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की।

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥


कनकमय मोर मुकुट बिलसै, देवता दरसन को तरसैं।

गगन सों सुमन रासि बरसै; बजे मुरचंग, मधुर मिरदंग, ग्वालिन संग;

अतुल रति गोप कुमारी की॥ श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥


जहां ते प्रकट भई गंगा, कलुष कलि हारिणि श्रीगंगा।

स्मरन ते होत मोह भंगा; बसी सिव सीस, जटा के बीच, हरै अघ कीच;

चरन छवि श्रीबनवारी की॥ श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥


चमकती उज्ज्वल तट रेनू, बज रही वृंदावन बेनू।

चहुं दिसि गोपि ग्वाल धेनू; हंसत मृदु मंद,चांदनी चंद, कटत भव फंद।।

टेर सुन दीन भिखारी की॥ श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥


आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥


Aarti Kunj Bihari Ki PDF

कृष्णा जी की आरती (Krishna aarti pdf in hindi) को बिना इंटरनेट के पढ़ने के लिए निचे दिए हुए लिंक पर क्लिक करे और कृष्णा जी की आरती pdf को अपने मोबाइल में डाउनलोड करे।

Click Here To Download

Read

श्री कृष्ण स्तुति | Krishna Stuti in Hindi With PDF

श्री कृष्ण चालीसा | Shri Krishna Chalisa in Hindi With PDF

शनि देव आरती | Shani Aarti in Hindi With PDF

लक्ष्मी जी की आरती | Laxmi Aarti in Hindi With PDF

Post a Comment

Previous Post Next Post